Wednesday 30 January 2008

अपने शो रूम में मैं

Bio data of Er.Vivek Ranjan Shrivastava


Name Vivek Ranjan Shrivastava

Date of birth 28.07. 1959

Education
B.E. (Civil) in 1980 from Govt.College of Engineering &Technology, Raipur
Post Graduation in (Foundation Engineering) in 1981 from Maulana Azad College of Technology, Bhopal
Diploma in Management in first batch of Indira Gandhi National Open University, New Delhi
Course in Computer programming, from M.A.C.T. Bhopal
Certified Energy Manager from Bureau of Energy Efficiency New Delhi in 2008

Service
Joined as Assistant Engineer (civil) in M.P.Electricity Board in1981
Place of posting Bhopal, Sarni Thermal Power Plant, Birsinghpur Thermal Power plant, Jabalpur, Mandla, Seoni, Now at Jabalpur.
Worked in Survey & investigation wing prepared D.P.R. for proposed Atomic Power Plant, Hydrology for hydel projects.
Experience of civil construction & maintenance of colonies, 132kv &33/11kv sub stations.
Presently working as Additional Superintending Engineer in Vigilance Wing of M.P. Poorvi Kshetra Vidyut Vitran Company Jabalpur


Awards
Red & White social bravery award & so many for Hindi writings.
Books published “Rambharose” (Vyang Sangrah), Akrosh (Kavya Sangrah), Jadoo Shiksha ka (Natak), Hindosta Hamara (natak), Jal Jameen Aur Jangal, Etc.
My Bogs
http://nomorepowertheft.blogspot.com
http://vivekkevyang.blogspot.com
http://vivekkikavitaye.blogspot.com
http://vivekkenamaskar.blogspot.com
& Others

CONTACT
Mobile 09425484452
Phone (residence) 0761 2702081

Postal Address
Bungalow Number C/6 , M.P.S.E.B.Colony ,Rampur Jabalpur

Email vivekranjan.vinamra@gmail.com

वे कहते हैं हमने साथ दिया उनका

Mandla is known as a tribal district, famous for Kanha National Forest, worldwide.
I was posted there as Assistant Engineer in charge civil sub division M. P. State Electricity Board, about 20 class three & four employees were working under me. Last day of the month is salary day in our organization, In the evening when the disbursement of salary was over I noticed that few gundas of the township were roaming on bikes around the office premises & were talking to my employees in absurd manner. I gathered the information. I was stunned to know that most of the poor employees were under great debts & these gunda people were there to collect the SOOD i.e. very high rate of interest ranging 10 % to 20% every month. My employees have paid much more than what they have ever taken, but still the original loan amount was not reduced to any extent. The SOOD KHORES were in practice to take only the heavy interests. Poor fellows were not enough literate, most of them were in habit of playing SATTA, & were heavy drunker.
I could not digest the issue. I took initiation & held a meeting with employees & then with the moneylenders. We officers contributed some amount & after negotiation, threat of police complaint, final payments were settled with instructions not to give any further loan to any of my subordinates .In due course money contributed by officers was returned to them in installments. I motivated the employees, we started with AKHAND RAMAYAN PATH, family picnics, cultural activities in colony amongst family members of employees were conducted, and I promoted them for small savings with U T I., etc. All these activities resulted positively. Cordial, healthy supportive environment was created. Most of them left drinking in due course of time. Now I am posted at Jabalpur but whenever any of them come here they visit me with regards. 3-4 children have become engineer, girls got married, and few employees are retired now. They say that my small work have changed there life .

By
Er.VIVEK RANJAN SHRIVASTAVA
Contect 09425484452 /0761 2702081
Email vivekranjan.vinamra@gmail.com
Address C-6 ,MPSEB C0lony , Rampur, Jabalpur (MP) 482008

विभिन्न सामयिक विषयों पर मेरे विचार

मुझे समझना चाहें तो मेरे विभिन्न सामयिक विषयों पर
विचार भी जानें

विवेक रंजन श्रीवास्तव


कनाट प्लेस एनकाउंटर मामले में अदालत के फैसले के बाद क्या पुलिस विभाग कोई सबक लेगा? 10-25-07 (04:25 PM)
police is an institution , not a person , hence due to such dicisions no mejor changes occures in the working of departments. concerned officials may change alittel bit ,or the generous police men who can take lessons from others may improve themselves . but we can not hope a tremendus change. - vivek ranjan shrivastava jabalpur 10-26-07 (02:24 PM)

क्या सचिन तेंडुलकर बेहतर टेस्ट कप्तान साबित हो सकते हैं? 10-27-07 (08:46 PM)
shayad nahi , her khiladi ka graph pahle uper jata hai fir samay ke sath dhire dhire yeh kam hi hota hai. sachin samay se pahle uper ja chuke hai . ab unka carrier dhalan per mana ja sakta hai . bhartiy team ko ab apekha krit yuva netritv ki jarurat hai 10-29-07 (02:52 PM)

बढ़ती नक्सली हिंसा के लिए आप किसे जिम्मेदार मानते हैं? 10-29-07 (06:58 PM)
us samajik vyavastha , aur ghatiya rajniti ko jo sabko sahi rojgar nahi de pa rahi hai 10-30-07 (04:04 PM)

क्या भारत पाकिस्तान के खिलाफ एक दिवसीय क्रिकेट श्रृंखला जीतने में सफल होगा? 11-01-07 (03:48 PM)
jaroor, bharat ke pas housla hai , pichli jeet ka itihas bhi . 11-02-07 (11:59 AM)

नंदीग्राम मुद्‍दे पर ममता बनर्जी का इस्तीफा क्या सिर्फ राजनीतिक स्टंट है? 11-11-07 (09:46 PM)
bhedi aaya bhedia aaya wali kahani padhi hai na aapne , ab mamta ji sach me bhi istifa dengi to lagega to yahi ki yeh ek stant hi hai . kassh ki hamare neta kuch to gambhir ho jaye . 11-12-07 (11:04 AM)


क्या चयनकर्ताओं पर बीसीसीआई की रोक तर्कसंगत है? 11-20-07 (03:24 PM)

गलत , इससे स्वतंत्र निष्पक्ष चयन बधित होगा 11-20-07 (06:52 PM)

क्या कारण हैं कि देश में आतंकवादियों का नेटवर्क बढ़ता ही जा रहा है? 11-24-07 (04:44 PM)
उदार लोकतांत्रिक कार्य प्रणाली , कमजोर सरकार , स्वार्थी राज़ नीति, ढीली पोलिस, आत्मकेंद्रित लोग ही करण है 11-26-07 (01:39 PM)
किरण बेदी का पुलिस सेवा से मोह भंग होने के पीछे क्या राजनीतिक कारण जिम्मेदार हैं? 11-30-07 (04:42 PM)
किरन जी चूँकि महिला अधिकारी है व सदैव समाचारों मे बने रहने क गुण उनमें है अत्; उनका नौकरी से मोहभंग जैसी बातें बह्स का विषय हे वरना कितने ही लोग मन मारकर नौकरी कर रहे हे 12-01-07 (03:45 PM)

गुजरात विधानसभा चुनाव में इस बार हिन्दुत्व का मुद्‍दा चलेगा या विकास का? 12-03-07 (04:18 PM)
चलना तो चहिये विकास का पर डर है प्रतिक्रिया में हिंदुत्व क का न चल जवे 12-03-07 (05:15 PM)
क्या आडवाणी के नाम पर भाजपा को आगामी लोकसभा चुनाव में वोट मिल पाएँगे? 12-11-07 (05:36 PM)
लकड़ी की handi बार बार नही चढ़ति 12-12-07 (04:14 PM)


क्या कारण हैं कि भारत में तेज गेंदबाजों को मदद देने वाले विकेट नहीं बनाए जाते? 12-14-07 (07:41 PM)
सर्वमान्य सत्य है कि stemina के मामले मे भारतीय पाश्चात्य लोगो के मुकाबले कमजोर ही है और तेज गेंदबाजी में कौशल से ज्यादा stemina जरूरी होता है यही करण है कि हमारे यहाँ तेज गेंदबाजी वाली पिचे नहीं बनती 12-15-07 (01:22 PM)


क्या किरण बेदी प्रकरण के बाद देश में ईमानदार पुलिस अफसरों का मनोबल गिरेगा? 12-27-07 (03:50 PM)
निश्चित रूप से , ऐसे प्रकरणों से ईमानदार ,कर्तव्य निष्ठ अधिकारियों का मनोबल गिरता तो है पर कहा गया है "गिरते हैं शहसवार ही मैदाने जंग में " तो हम कामना यही करें कि सच के साथी गिरें न टूटें न ! 12-27-07 (05:45 PM)


क्या आतंकवादी हिंसा और दहशत के बीच पाकिस्तान में निष्पक्ष चुनाव हो पाएँगे? 12-28-07 (03:39 PM)
बेनजीर की हत्या के बाद पाकिस्तान के हालात बेकाबू हो रहे हैं , ऐसे में निष्पक्ष चुनाव होने की कोई संभावना ही नहीं है . 12-28-07 (04:01 PM)


नए साल में लोगों को किस तरह के संकल्प लेना चाहिए? 01-01-08 (01:51 PM)
यूँ तो ये हम होते हैं जो किसी तारीख को स्वर्णाक्षरों से लिख देते हैं या फिर पोत देते हैं उस पर काली स्याही, पर फिर भी नये कैलेण्डर के साथ , नये संकल्प , और नई डायरी में पुराने हिसाब किताब लिखने से पहले , आइये मोबाइल के सारे मित्रों , परिचितों , अपरिचितों सबको प्रस्तुत करें शुभकामनायें , नव वर्ष केवल दीवार पर लगे कैलेण्दर का बदलाव मात्र है . अस्तु ! हर परिवर्तन जड़ता को तोड़ता है . नयी सोच को जन्म देता है , आइये संकल्प लें कि कुछ ऐसा करें कि समय की रेत पर ऐसे पग चिन्ह छोड़ सकें जो अमिट हों . प्रत्येक दम्पति अपने बच्चों को अच्छे नागरिक बनाये तो सारा समाज ही अच्छा बन सकेगा . विवेक रंजन श्रीवास्तव vivekranjan.vinamra@gmail.com 01-02-08 (04:00 PM)

क्या किरण बेदी को राजनीति में आना चाहिए? 01-05-08 (02:48 PM)
अवश्य , राजनीति में अनुकरणीय नेतृत्व देने वाले , जुझारू , स्वच्छ छबि और सही सोच के बुद्धिजीवीयों को आने की जरूरत समय की माँग है . 01-07-08 (11:51 AM)

क्या भारत-चीन सीमा विवाद का कभी सर्वसम्मत हल निकल पाएगा? 01-16-08 (04:46 PM)
सर्व संम्त हल तभी निकलते हैं जब दोनो पक्षों के अन्य हित विवादित सीमाओ के हितों से कहीं बड़े हो जायें , फिलहाल निकट भविष्य में तो ऐसी संभावना नहीं दिखती 01-17-08 (01:23 PM)

शेयर बाजार लगातार जारी गिरावट के क्या कारण हैं? 01-21-08 (06:19 PM)
बिना शेयर मारकेट के पूरे ज्ञान के ही निवेशको द्वारा अंधानुकरण में जल्दी से अमीर बनने की ख्वाहिश में निवेश , सेबी का अनियंत्रण , व वैश्विक प्रभाव. 01-22-08 (05:57 PM)

क्या आडवाणी के नेतृत्व में राजग को लोकसभा चुनाव में सफलता मिलेगी? 01-22-08 (05:27 PM)
भारत में हमेशा से चुनावों के अंतिम दिन ही आम मतदाता अपना करिश्माई फैसला करता आया है .इसलिये अभी से यह कह देना कि आडवाणी जी भाजपा को जिता ही देंगे ,बहुत जल्दबाजी होगी . पर हाँ ६० प्रतिशत संभावनायें तो लग रही हैं . 01-23-08 (05:01 PM)

पर्थ टेस्ट की तरह क्या टीम इंडिया एडीलेड में भी कंगारुओं को सबक सिखा पाएगी? 01-23-08 (03:57 PM)
एक भारतीय क्रिकेट के प्रेमी एवं प्रशंसक होने के नाते आशा तो करनी ही चाहिये. यद्यपि यह याद रखना ही चाहिये कि क्रिकेट में कभी भी कुछ भी हो सकता है . 01-25-08 (12:42 PM)

क्या आईपीएल से सितारों के जुड़ने से क्रिकेट के ग्लेमर और बढ़ेगा? 01-27-08 (04:14 PM)
जरूर बढ़ेगा, मेरा मानना है इससे दूसरेखेलो मे भि स्प्र्धॅबढ़ेगी 01-27-08 (08:56 PM)

Thursday 3 January 2008

सिर्फ बातें व्यर्थ हैं कुछ काम होना चाहिये

सिर्फ बातें व्यर्थ हैं कुछ काम होना चाहिये

प्रो. सी.बी.श्रीवास्तव
सेवा निवृत प्राध्यापक
वर्तमान पता
c-6, mpseb colony, rampur Jabalpur ,पिन ४८२००८
फोन ०७६१ २७०२०८१
मोबा. ९४२५४८४४५२ email vivek1959@yahoo.co.in





सिर्फ बातें व्यर्थ हैं कुछ काम होना चाहिये
हर हृदय की शांति सुख आराम होना चाहिये

बातें तो होती बहुत पर काम हो पाते हैं कम
बातों में विश्वास कअ पेगअम होना चाहिये

उड़ती बातों औ॔ दिखावों से भला क्या फायदा
कअम हों जिनके सुखद परिणाम होनअ चाहिये

हवा के झोंकों से आके सोच यदि जावे बिखर
तो सजाने कअ उन्हें व्यायाम होना चाहिये

लोगों की नजरों में बसते स्वप्न हैं समृद्धि के
पाने नई उपलब्धि नित संग्राम होना चाहिये

पारदर्शी यत्न ऐसे हों जिन्हें सब देख लें
सफलता जो मिले उसका नाम होना चाहिये

सकारात्मक भावना भरती है हर मन में खुशी
सबके मन का आनन्द सुख का धाम होना चाहिये

आसुरी दुष्वृत्तियों के सामयिक उच्छेद को
साथ शाश्वत सजग तत्पर राम होना चाहिये !!