Sunday 28 September 2008

दो टूक ...आहत है आम आदमी




दो टूक ...आहत है आम आदमी

माननीय अमिताभ जी ,
आप देश के करोड़ो युवाओ के रोल माडल थे , पर हिन्दी के मामले में जिस तरह आपने समझौते की स्वार्थी नीति अपनाई देश का आम आदमी
आहत हैं .


माननीय अर्जुन सिंग जी ,
आप अराजकता फैलाने में माहिर हैं . आपने फ्री बिजली बाँटी . आपने जिसने जहाँ कब्जा कर लिया उसे उस जमीन का पट्टा बाँटा , एड्हाक लोगों को बिना पी एस सी के रैग्युलर कर डाला .जब जितना मौका मिला आपने अराजकता फैलाकर , स्वयं की वाह वाही लूटी .अब आप आतंक वादियों के समर्थन में ... देश का आम आदमी
आहत हैं .
देश का आम आदमी
आहत हैं .

माननीय मुलायम सिग जी ,
सिमी का ऐसा समर्थन क्यों?देश का आम आदमी
आहत हैं .