Tuesday 16 October 2007

हंस वाहिनी वीण वादिनी शारदे


शुभवस्त्रे हंस वाहिनी वीण वादिनी शारदे ,
संसार को अवलंब दे आधार दे !
रही घर घर निरंतर आज धन की साधना ,
स्वारथ के चंदन अगरु से अर्चना आराधना
आतम वंचित मन सशंकित विश्व बहुत उदास है
,चेतना जग की जगा मां वीण की झंकार दे !

No comments: