Friday 23 March 2012

समय ही इनके प्रयासो का मूल्यांकन करेगा

हिन्दी ब्लागिंग के विगत वर्ष ....

पारिवारिक साहित्यिक संस्कारो के चलते लिखना छपना तो स्कूल के दिनो से ही प्रारंभ हो गया था , २००५ में हिन्दी ब्लागिंग प्रारंभ कीhttp://vivekkenamaskar.blogspot.in/ और दुनिया से सीधे जुड़ गया . मजा आता था ,न ही संपादक जी की कैंची चल पाती थी, न तो छपने के लिये इंतजार करना होता था , और संपादक के खेद सहित वापसी के लिफाफे का तो डर ही नही था .

ब्लाग विथ ए मिशन http://nomorepowertheft.blogspot.com/ भी चल रहा है .
ब्लाग एग्रीगेटर , ब्लागवाणी , नारद जी के सौजन्य से घण्टे दो घण्टो में ढ़ेर सी प्रतिक्रियायें भी आ जाती थीं .

फिर मैने वेब दुनिया पर भी ब्लागिंग की http://duniyagolhai.mywebdunia.com/

. ग्रुप ब्लागो में भी लिखा , कई कई जगह http://bhadas.blogspot.in/
.
मित्रो के साथ मिलकर दिव्य नर्मदा http://divyanarmada.blogspot.in/जैसी साहित्यिक पत्रिका भी ब्लाग पर बना डाली .

पर इन दिनो जो मजा जागरण जंक्शन पर आ रहा है वह नयापन लिये हुये है . कमी बस इतनी है कि अब तक ब्लाग लेखन पर पारिश्रमिक की कोई व्यवस्था नही है , मतलब जो घर बेचे आपनो चले हमारे साथ ....
हमारे जैसे सैकड़ो धुनी इस हिन्दी सेवा में लगे ही हैं . समय ही इनके प्रयासो का मूल्यांकन करेगा .

1 comment:

अनूप शुक्ल said...

वाह! 2005 से ब्लाग से जुड़े हैं। बधाई!